एक कंप्यूटर में, एक फ़ाइल सिस्टम - कभी-कभी लिखित फाइल सिस्टम - वह तरीका है जिसमें फ़ाइलों को नाम दिया जाता है और जहां उन्हें संग्रहण और restoration के लिए logical रूप से रखा जाता है। फ़ाइल सिस्टम के बिना, Store जानकारी को अलग-अलग फ़ाइलों में अलग नहीं किया जा सकता और पहचानना और पुनः प्राप्त करना मुश्किल होगा। जैसे-जैसे डेटा कैपेसिटी बढ़ती है, स्टोरेज में डेटा फाइल को स्टोर करना और organize करना तथा व्यक्तिगत फ़ाइलों की पहुंच और भी महत्वपूर्ण होती जा रही है।


File System in Operating System and Type Of File System in Hindi



File System in Operating system



फ़ाइल सिस्टम ऑपरेटिंग सिस्टम (OS), जैसे Microsoft Windows, macOS और Linux- आधारित सिस्टम के बीच अलग अलग होते हैं। कुछ फ़ाइल system विशिष्ट application के लिए डिज़ाइन किए गए होते हैं। प्रमुख प्रकार की फ़ाइल सिस्टम में Distributed फ़ाइल सिस्टम, डिस्क based  फ़ाइल सिस्टम और स्पेशल purpose फ़ाइल सिस्टम शामिल हैं।



फाइल सिस्टम कैसे काम करता हैं ?

(How File System Work In Hindi)



एक फाइल सिस्टम का काम डेटा को स्टोर और व्यवस्थित करना होता है और स्टोरेज डिवाइस में मौजूद सभी डेटा के लिए एक प्रकार के index के रूप में देखा जाता है। इन Devices में हार्ड ड्राइव, ऑप्टिकल ड्राइव और फ्लैश ड्राइव शामिल हो सकते हैं।



फ़ाइल सिस्टम नामकरण फ़ाइलों के लिए सम्मेलनों को निर्दिष्ट करता है, जिसमें एक नाम में अधिकतम characters शामिल हैं, कौन से characters का उपयोग किया जा सकता है और, कुछ System में, फ़ाइल नाम suffix कितना लम्बा हो सकता है। कई फाइल सिस्टम में, फ़ाइल नाम केस Sensitive नहीं होते हैं।



फ़ाइल के साथ ही, फ़ाइल सिस्टम में फ़ाइल के आकार, साथ ही मेटा डेटा में Attribute  में इसके गुण, स्थान और पदानुक्रम जैसी जानकारी होती है। मेटा डेटा ड्राइव पर उपलब्ध स्टोरेज के निशुल्क ब्लॉक की पहचान कर सकता है और यह भी पता लगाता है की कितनी जगह उपलब्ध है।



एक फ़ाइल सिस्टम में directory की संरचना के माध्यम से फ़ाइल में पथ निर्दिष्ट करने के लिए एक फॉर्मेट भी शामिल है। एक फ़ाइल को Directory में रखा गया है - या विंडोज OS के एक फ़ोल्डर - या ट्री की संरचना में वांछित स्थान पर Sub directory । पीसी और मोबाइल OS में फाइल सिस्टम होता है जिसमें फाइलें एक hierarchical  tree संरचना में रखी जाती हैं।



स्टोरेज माध्यम पर फाइलें और Directories बनाने से पहले, partition को जगह पर रखा जाना चाहिए। एक partition हार्ड डिस्क या अन्य Storage का एक क्षेत्र है जिसे OS अलग से manage करता है। एक फ़ाइल सिस्टम primary  partition में निहित है, और कुछ OS एक डिस्क पर कई partition के लिए अनुमति देते हैं। इस स्थिति में, यदि एक फ़ाइल सिस्टम Corrupt हो जाता है, तो एक अलग partition में डेटा सुरक्षित रहता है।



फाइल सिस्टम में Meta डाटा की भूमिका 



फ़ाइल सिस्टम फ़ाइलों को संग्रहीत और पुनर्प्राप्त करने के लिए मेटा डेटा का उपयोग करता है। मेटा डेटा टैग के उदाहरणों में शामिल हैं:


  • Date created
  • Date modified
  • Last date of access
  • Last backup
  • User ID of the file creator
  • Access permissions
  • File size



मेटा डेटा को फ़ाइल की सामग्री से अलग-अलग संग्रहीत किया जाता है, कई फ़ाइल सिस्टमों के साथ अलग-अलग directory entries में फ़ाइल नामों को संग्रहीत किया जाता है। कुछ मेटा डेटा को Directory में रखा जा सकता है, जबकि अन्य मेटा डेटा को एक Structure में रखा जा सकता है जिसे इनोड कहा जाता है।



यूनिक्स जैसे ऑपरेटिंग सिस्टम में, एक इनकोड फ़ाइल की सामग्री से संबंधित मेटा डेटा को स्टोर कर सकता है। inode इंडेक्स सूचना को Number द्वारा, जिसका उपयोग फ़ाइल के स्थान और फिर फ़ाइल को स्वयं एक्सेस करने के लिए किया जा सकता है।



फ़ाइल सिस्टम का एक उदाहरण जो मेटा डेटा पर कैपिटल करता है, OS  X है, जिसे ऐप्पल द्वारा उपयोग किया जाता है। यह फ़ाइल नाम सहित कई सुविधाओं की अनुमति देता है, जो 255 characters तक जा सकता है।



Type Of File System in Hindi



अगर हम बात करे विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम इस तो इसमें दो तरह का फाइल सिस्टम उपयोग होता है पहला हुए सबसे पुराना FAT32, FAT16, FAT12 और अभी जो चल रहा  है वो NTFS फाइल सिस्टम है। 



FAT File System In Hindi



FAT फाइल सिस्टम का इस्तेमाल शुरू में MS ऑपरेटिंग सिस्टम जैसे MS-DOS और Microsoft Windows के शुरुआती version में हुआ करता था। फिर भी, यह फ़ाइल मेमोरी के लिए USB मेमोरी स्टिक्स या मेमोरी कार्ड पर व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। यह सरल, मजबूत है और विशेष रूप से एम्बेडेड Application में अच्छा प्रदर्शन प्रदान करता है।



FAT File System के Limitation 



फैट फाइल सिस्टम के कुछ लिमिटेशन भी है जिसके कारण आज कल इसका उपयोग बहुत काम हो गया है अब हम जानते है की इस फाइल सिस्टम की लिमिटेशन क्या है ? 


  • कई partition नहीं बनाया जा सकता हैं और उनका पता भी नहीं लगाया जाएगा जा सकता हैं।
  • प्रति फ़ाइल एकाधिक सक्रिय फ़ाइल हैंडल केवल रीड मोड में खोली गई फ़ाइलों के लिए allow हैं।
  • अधिकतम पथ लंबाई LFN समर्थन के साथ FAT के लिए 260 बाइट्स और LFN समर्थन के बिना FAT के लिए 80 बाइट्स है।
  • ANSI C मानक पुस्तकालय द्वारा निर्धारित fseek और ftell सीमा के कारण फाइलों के भीतर की खोज दो गीगाबाइट के क्षेत्र तक सीमित है 
  • UTF-16 और UTF-8 character एन्कोडिंग समर्थित नहीं है.



NTFS File System In Hindi



NT फाइल सिस्टम (NTFS), जिसे कभी-कभी न्यू टेक्नोलॉजी फाइल सिस्टम भी कहा जाता है, जो की NTFS का फुल फॉर्म भी है। एक ऐसी प्रक्रिया है जिसे विंडोज़ NT ऑपरेटिंग सिस्टम हार्ड डिस्क पर फ़ाइलों को संग्रहीत करने, व्यवस्थित करने और खोजने के लिए उपयोग करता है।



NTFS को पहली बार 1993 में विंडोज NT 3.1 रिलीज के अलावा पेश किया गया था।



NTFS कैसे काम करता है?



अगर हम देखे तो NTFS कुछ इस तरह काम करता  है। 

  • जब एक हार्ड डिस्क को Formate किया जाता है। 
  • एक फ़ाइल हार्ड डिस्क के भीतर partition में devide हो जाती है। 
  • प्रत्येक partition के भीतर, ऑपरेटिंग सिस्टम एक विशिष्ट ऑपरेटिंग सिस्टम में Store हर फ़ाइल को ट्रैक करता है।
  • प्रत्येक फ़ाइल को पूर्वनिर्धारित समान आकार (हार्ड डिस्क पर) के एक या अधिक समूहों या डिस्क स्थानों में वितरित और Store किया जाता है। 
  • प्रत्येक क्लस्टर का आकार 512 बाइट्स से 64 किलोबाइट तक होता है। 

आप अपने संगठन के लिए सबसे महत्वपूर्ण के आधार पर एक क्लस्टर के आकार को नियंत्रित कर सकते हैं:

  • डिस्क space का कुशल उपयोग
  • किसी फ़ाइल तक पहुँचने के लिए डिस्क एक्सेस की Number आवश्यक है। 



NTFS File System के फायदे 



अगर आप विंडोज 200 का उपयोग कर रहे है तो ये बहुत important है की आप उसके पार्टीशन को FAT 32 के बजाय NTFS से ही फॉर्मेट करे multiboot कॉन्फ़िगरेशन को छोड़ कर। 



अगर आप अपने विंडोज को FAT 32 के बजाय NTFS से फॉर्मेट करते है तो उसके बहुत ही Advantage है जो मैं नीचे बताने जा रहा हु। 



Compression : अगर विंडोज 200 NTFS से फॉर्मेट है तो उसके हर एक फाइल कम्प्रेशन को सपोर्ट करेंगे NTFS वॉल्यूम के कारण। जो भी फाइल NTFS वॉल्यूम से compress है वो बिना dicompress किये हुए विंडोज के किसी भी एप्लीकेशन द्वारा read और write किया जा सकता है।



जब भी कोई फाइल read किया जाता है तो वो उस समय automatic decompress हो जाता है। और जैसे ही कोई उस फाइल को बंद करता है तो वो आटोमेटिक compress हो जाता है। 



Recoverability  : NTFS में recoverability को कुछ इस तरह डिज़ाइन किया गया है की अगर आप का सिस्टम में कभी आटोमेटिक failure होता है तो आप खुद डिस्क रिपेयर प्रोग्राम उस NTFS volume में चला सकते है और अपने ऑपरेटिंग सिस्टम को रिपेयर कर सकते है। सिस्टम की failure की स्थिति में, NTFS फ़ाइल सिस्टम को आटोमेटिक रिस्टोर करने के लिए अपनी लॉग फ़ाइल और चेकपॉइंट जानकारी का उपयोग करता है।



अगर आप अपने वॉल्यूम को FAT 32 या FAT 16 के बजाय NTFS से फॉर्मेट करते है तो इसके फायदे कुछ इस तरह है। 



विंडोज 2000 ऑपरेटिंग सिस्टम में कुछ फीचर ऐसे होते है जिनको चलने के  लिए NTFS की जरुरत होती है। 



अगर आप NTFS से अपने डिस्क को फॉर्मेट करते है तो उसके अंदर फाइल एक्सेस करने की स्पीड काफी अच्छी हो जाती है। 



फ़ाइल और फ़ोल्डर सुरक्षा NTFS वॉल्यूम पर, आप उन फ़ाइलों और फ़ोल्डरों पर फ़ाइल permission  सेट कर सकते हैं जो ये decide करते हैं कि कौन से समूह और उपयोगकर्ता उनके पास हैं, और किस स्तर तक पहुँच की अनुमति है। 



NTFS फ़ाइल और फ़ोल्डर अनुमतियाँ उस कंप्यूटर पर काम करने वाले उपयोगकर्ताओं के लिए लागू होती हैं जहाँ फ़ाइल store की जाती है और फ़ाइल शेयर फ़ोल्डर में नेटवर्क पर फ़ाइल तक पहुँचने वाले उपयोगकर्ताओं के लिए होती है। NTFS के साथ आप शेयर अनुमतियाँ भी सेट कर सकते हैं जो फ़ाइल और फ़ोल्डर अनुमतियों के combination में शेयर किए गए फ़ोल्डर पर काम करते हैं।



NTFS की मदद से आप 2 terabytes तक की हार्ड डिस्क को फॉर्मेट कर सकते है। 



NTFS फाइल content की unautorize एक्सेस को रोकने के लिए नेटिव एन्क्रिप्शन सिस्टम का उपयोग करता करता है जिसको encrypting file system (EFS) कहते है जो एक पब्लिक key सिक्योरिटी का उपयोग करता है। 



NTFS का एक बहुत बड़ा फायदा यह है की आप इस पर डिस्क कोटा लगा सकते है और ये decide कर सकते है की किसको कितना स्पेस किसी भी हार्ड डिस्क में मिले और उसे उतना स्पेस ही उपयोग करना होगा।



Disadvantage OF NTFS File System In Hindi  



NTFS फाइल सिस्टम के फायदे के साथ साथ कुछ disadvantage भी है जैसे की अगर मान लीजिये की एक हार्ड डिस्क 100 MB की है तो अगर आप  उसको NTFS से फॉर्मेट करते हो तो उस हार्ड डिस्क का कुछ स्पेस काम हो जायेगा हमारे केस में 100 MB है तो NTFS 4 MB कम कर देगा इसलिए अगर आप किसी 400 MB से काम स्टोरेज वाली डिवाइस का उपयोग कर रहे है तो उसे फॉर्मेट करने के लिए NTFS का उपयोग न करे। 



यह बात माइक्रोसॉफ्ट ने भी कहा है की 400 MB से जादे स्टोरेज वाली डिवाइस को ही NTFS से फॉर्मेट करे। 



आप इस फाइल सिस्टम का उपयोग करके किसी भी फ्लॉफी डिस्क को फॉर्मेट नहीं कर सकते है क्यों की NTFS फॉर्मेट होने के बाद स्टोरेज लेता है और फ्लॉफी डिस्क में स्पेस पहले से ही बहुत काम होता है। 



NTFS फाइल सिस्टम में अगर आप किसी फाइल का नाम देते है तो उसकी भी कुछ limitation है जैसे की किसी भी फाइल या डायरेक्टरी का फाइल नाम 255 character तक  लम्बा हो सकता इसके साथ साथ अगर आप एक ही फाइल को एक ही नाम से सेव करते हो जैसे की पहले को TECHNOVICHAR.txt और दूसरे को technovichar.txt से सेव करते हो तो सिस्टम इन दोनों UPPER CASE और lower case नाम में अन्तर नहीं कर पायेगा। 



NTFS फाइल सिस्टम को विंडोज 2000  और इसके बाद आने वाले विंडोज के version के लिए बनाया गया है windows  2000  के पहले के ऑपरेटिंग सिस्टम जैसे की windows 95,98 ME और Dos NTFS को सपोर्ट नहीं करते है ,आपको NTFS फाइल सिस्टम का  उपयोग करने के लिए windows  2000 के बाद वाले ऑपरेटिंग सिस्टम होने चाहिए जैसे की windows 7 ,8 और windows 10 में कर सकते है। और सर्वर में 2000 के बाद वाले जैसे की विंडोज सर्वर 2008 ,2012 ,2016 और भी जो लेटेस्ट version है। 



निष्कर्ष 



तो दोस्तों आपने जाना की File management in Operating System | Type Of File System in Hindi। यदि जानकारी पसंद आई है, तो इसे दूसरों के साथ भी शेयर करें। अपने Social मीडिया में भी शेयर करना न भूले।