Network Switch क्या है ? , फीचर्स , प्रकार | Network Switch in Hindi

आपका Technovichar में स्वागत है। आज के इस Article में हम Network Switch के बारेमे जानने वाले है। अगर आप Computer Network में Interest रखते है तो यह Article आपके लिए Informative होने वाला है। तो चलिए जानते है की Network Switch क्या है ??




Page Content


Network Switch क्या है ?(Network Switch in Hindi)

Network Switch के फीचर्स 

Network Switch Working in Hindi 

Network Switch के प्रकार 

Conclusion



Network Switch क्या है ?

(Network Switch in Hindi)



Switch Data Link Layer (Layer - 2 Device) पर काम करने वाला Hardware एवं Software Device है। Switch को Multiport Hub भी कहा जाता है। Switch का काम Different LAN Networks या Device को आपस में जोड़ना है।  



Switch की Working Bridge की Working से कुछ हद तक मिलती है। यह सब Network डिवाइस का Main काम Communication या फिर Connection का होता है। 



Network Switch के फीचर्स 



  • Network Switch में Packet का Filtering भी होता है। 


Filtering क्या है ?


Filtering एक ऐसी Process है जिसमे Packet जब Destination तक पहुंच जाए तो उसे आगे Forward होने से अटकाया जा सकता है। 



  • Network Switch Packet को Forward भी करती है। यानिकि यह एक Point से दूसरे Point पर Packet को Transfer करती है। 

  • Network Switch में Collision होने की संभावना बिलकुल कम है। 


Collision क्या होता है ?



Collision का मतलब यह होता है की जब एक साथ एक से ज्यादा Packets Transfer होते है तो यह एक दूसरे के साथ टकरा सकते है। 

  • Network Switch में Device दूसरे Device से एक Individual Path से Connect होता है। 

  • स्विच CAM Table को Maintain रखता है। 

  • Network Switch के कई और Features आपको उसकी Working के बारेमे जानने के बाद ही पता चलेंगे। 

  • Switch की Working Slow होती है। 



Network Switch Working in Hindi 



Network Switch काम करने का तरीका HUB से थोड़ा Different होता है। Switch में Hardware और उसके साथ Software का भी Combination होता है। Switch , Packets को भेजने के लिए एक CAM - Content Accessible Memory table Maintain करता है। सबसे पहले यह Table पूरा खाली होता है। 



और जब कोई A Device किसी B Device के साथ Communicate करता है तब Switch यह Message सभी Device के साथ Broad Cast करता है। 



और जब B Replay करता है तब Switch B का Mac Address अपने Table में Store करता है। और इस तरह से Switch अपने Table में Connected Device के Mac Address और Port Number को Store करता है। 



ताकि बाद में जब भी फिर से उसी Device के साथ Communication करना पड़े तो वह Message को Broad Cast ना करके direct उसी Device को Message पंहुचा सके। तो इस प्रकार से Network Switch Work करता है। 



Network Switch के प्रकार 



Store and Forward Switch 



Store and Forward Switch में Switch Buffers , Frames को Forward करने से पहले उसे Verify और Filter करते है। इसलिए यह Switch का Use ज्यादा होता है तो यह काफी Reliable है। पर Verify करने की Process की वजह से यह काफी Slow होता है। 



Cut Through Switch 



यह Switch Only MAC Address को Check करके Forwarding का काम करता है। Verity और Filter नहीं करने की वजह से Working Fast होती है। 



Fragment Free Switch 



यह Switch ,Starting के 64 Bytes को Read करता है। इस Switch में Store and Forward Switch और Cut Through Switch दोनों के Benefits मिलते है। 



Adaptive Switch 



इस Switch में ऊपर के 3 Switch में से कोई भी Switch की Methods Select कर सकते है। 



Conclusion



हमें उम्मीद है की आपको यह Post - Network Switch क्या है ? , फीचर्स , प्रकार | Network Switch in Hindi पूरी तरह से समज में आया होगा और हमें यकीन है की आपको इस Article को पढ़कर काफी जानकारी भी मिली होगी.



यदि आपको हमारा यह लेख Network Switch क्या है ? , फीचर्स , प्रकार | Network Switch in Hindi पसंद आया है तो आप इसे अपने दोस्तों और अपने सोशल मीडिया पर शेयर जरुर करे. जिससे वह लोग भी इस जानकारी का फायदा उठा सके और यह जान सके.



अगर आप Network Switch जैसे ओर Topic के बारेमे जानना चाहते है तो Notification Allow जरूर करदे। ताकि ऐसी Information आपको Daily मिलती रहे।



Also Read This

Post a Comment

0 Comments