CD kya hai ? CD का फुल फॉर्म क्या है ? | What is CD in Hindi

आपका हमारी वेबसाइट Technovichar में स्वागत है।  इस Article में हम जानने वाले की CD kya hai CD का फुल फॉर्म क्या है और कैसे काम करती है। आजकल लेटेस्ट और  काफी स्मॉल Device आ गए हैं जिससे CD एक दम ही गायब हो रही है। आप सीडी के बारे में Complete Details जानना चाहते है तो यह आर्टिकल Read करे।


Compact Disk kya hai aor kaise kam karta hai



Page Content


CD kya hai ??(What is CD in Hindi)

CD का फुल फॉर्म क्या है ??

History of CD in Hindi 

CD काम कैसे करता है ??

CD के प्रकार (Types of CD in Hindi)

CD के Advantages 

Disadvantages of CD 

CD के बाद कोनसे Storage Device पॉपुलर हुए ??

Conclusion


आजकल  CD का उपयोग बहुत ही कम हो गया। एक  समय था जब उसका सबसे ज्यादा इस्तेमाल होता था। सीडी का यूज़ डाटा  स्टोरेज के लिए होता है। आइये अब जानते है की CD kya hai ??



CD kya hai ??

(What is CD in Hindi)



CD जिसे Compact Disk  भी कहा जाता है इस पर DATA एक बार Write किया जाता है और कई बार Read किया जाता है। पहले CD का काम केवल डिजिटल ऑडियो रिकॉर्डिंग को  Store करने के लिए होता था। पर बादमे सभी प्रकार के DATA Store करने के लिए CD का उपयोग होने लगा। 



CD पर से Data Read करने के लिए एक विशेष उपकरण का उपयोग किया जाता है जिसे CD ROM Drive कहते हैं। CD पर जो Data Write किया गया है उसे Read करने के लिए लेजर तकनीक का Use होता है। इसलिए इसे Optical Disk भी कहा जाता है। एक Standard CD में 700 MB Data Save किया जा सकता है। 



CD का फुल फॉर्म क्या है ??



CD का फुल फॉर्म Compact Disk है।

 


History of CD in Hindi 



CD का आविष्कार James Russell ने किया था। James Russell ने CD की खोज 1965 में की थी। और फिर उसकी Pattern को सोनी और फिलिप्स इन दो कंपनी को बेच दिया।  सोनी और फिलिप्स कंपनी 1982 में CD बनाने लगी और दुनिया की पहली CD Audio Player CDP-101 Launch किया। 



CD काम कैसे करता है ??



इसके काम करने का तरीका Hard Disk से कुछ अलग है। CD में ट्रैक स्पाइरल और Flat होते है। यह एक प्रकार की Read Only Memory है। CD पर डाटा Encode करने के लिए लेजर टेक्नोलॉजी का उपयोग किया जाता है। लेजर बीम की मदद से CD पर Data की Encoding होती है। Compact Disk एक Thin Disk होती है जो Metal और प्लास्टीक से बानी होती है। CD में Total Three लेयर्स होते है। Middle वाला लेयर Aluminum का होता है। 



अगर आपने CD को Notice किया है तो उसकी एक Side Shiny यानिकि चमकीली और एक Side Dull होती है।  जिसमे से Shiny Side पर से Laser Beam टकराते है और इस Process से CD पर से Data Read किया जाता है। CD में data Write करने के लिए CD Writer का उपयोग किया जाता है। इससे CD में Store data को Read भी कर सकते है। 



CD के प्रकार 

(Types of CD in Hindi)



CD के अलग अलग प्रकार की माहिती यहाँ पर दी गए है। 



1) CD-ROM 



CD-ROM में ROM का मतलब READ ONLY MEMORY होता है। यानिकि इस Type की CD में केवल DATA को READ किया जाता है उसे Modify या Change नहीं किया जा सकता। इसका उपयोग ज्यादातर Game वितरण या Software वितरण के लिए किया जाता है। 



2) CD-R



CD-R को CD-WORM के नाम से भी जाना जाता है। जिसमे WORM फुल फॉर्म है Write Once , Read Many। इस टाइप की CD में DATA बहुत बार READ किया जा सकता है पर केवल एक भी बार Write किया जाता है। 



3) CD+R 



CD+R में +R का मतलब है की यह CD-R से लगभग Double Space देता है। यह Disk Developer द्वारा Available Storage Amount को बढ़ाने के लिए बनाया जाता है। 



4) Rewriteable CD 



यह Disk को कई बार Write , Erase , और Reuse किया जाता है। पर इसमें जब Audio और Video DATA Store करते है तो उसकी Quality कम हो जाती है। 



5) Video CD 



इस CD का उपयोग इसके नाम से ही मालूम पड़ता है की Image , वीडियो और Picture Store या Watch करने के लिए होता है। पर बाद में इस CD की जगह SVCD और DVD ने ली। क्योकि Video CD की Quality DVD की तुलनामे बहुत ही कम थी। और आज कल तो DVD से भी अच्छे Device उपलभ्ध है। 



इसके आलावा भी CD के कई प्रकार है पर हमने कुछ Major प्रकार के बारेमे Discuss किया जो आपकी जानकारी के लिए महत्व पूर्ण थे। 



CD के Advantages 



  • CD की Cost अन्य Device से Low होती है। 

  • यह Device Random Data Access Provide करता है। 

  • इसमें Entire सॉफ्टवेयर Package को install किया जाता है। जिससे इस बादमे Access करना Easy रहता है। 

  • CD में Laser Technology का Use होता है जो एक Unique तकनीक है। और अन्य स्टोरेज डिवाइस जैसे की हार्ड डिस्क से Different है। 

  • CD एक Portable डिवाइस है। 



Disadvantages of CD 



  • CD की Storage Capacity बहुत ही कम होती है। इस लिए आजके समय में CD का उपयोग नहीं होता। 

  • CD पर Scratch पड़ सकते है। जिससे Device Damage होने की पूरी संभावना  है। 

  • Read-Write Speed बहुत Slow होती है।



CD के बाद कोनसे Storage Device पॉपुलर हुए ??



CD के बाद DVD और Blu Ray Disk ने CD की जगह ले ली। और कई और Large Storage Device जैसे की Jump Drives, Flash Drives का भी Use CD की तुलनामे ज्यादा होने लगा। 



Conclusion



हमें उम्मीद है की आपको यह Post - CD kya hai ? CD का फुल फॉर्म क्या है ? | What is CD in Hindi पूरी तरह से समज में आया होगा और हमें यकीन है की आपको इस Article को पढ़कर काफी जानकारी भी मिली होगी.



यदि आपको हमारा यह लेख CD kya hai ? CD का फुल फॉर्म क्या है ? | What is CD in Hindi पसंद आया है तो आप इसे अपने दोस्तों और अपने सोशल मीडिया पर शेयर जरुर करे. जिससे वह लोग भी इस जानकारी का फायदा उठा सके और यह जान सके.



अगर आप CD(Compact Disk) kya hai जैसे ओर Topic के बारेमे जानना चाहते है तो Notification Allow जरूर करदे। ताकि ऐसी Information आपको Daily मिलती रहे।




Also Read This

Post a Comment

0 Comments